screen-printing

Printing Related Problems and their solution. Printing संबंधी समस्याएँ एवं उनका समाधान।

1.Senstizer कितने दिन तक यूज किया जा सकता है?

एक बार आप सैनिटाइजर का सलूशन बना लेते हैं तो उसका कोई एक्सपायरी नहीं होता है आप उसे करीब 2 साल तक भी इस्तेमाल कर सकते हैं मगर आपने वह सेन्सीटाइजेशन में मिक्स कर दिया है तो वह 3 घंटों से ज्यादा इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है इस बात का आपको ध्यान रखना है.

2.Water Based ink को क्या वाश किया जा सकता है?

जी हां ,अगर आप एक अच्छी क्वालिटी के वॉटर बेस इंक इस्तेमाल कर रहे हैं तो आपको धोने के बाद इंक निकलने की परेशानी नहीं आएगी, इंक खरीदने समय आप क्वालिटी का ध्यान जरूर रखें सस्ते क्वालिटी के इन में सॉलिड कंटेंट कम होते हैं जिसकी वजह से वह धोने के बाद धीरे-धीरे निकलने लगते हैं

3.Sublimation Printing व Screen Printing में क्या अंतर होता है? what is the difference between screen printing and sublimation printing?

sublimation printing में मुख्य रूप से स्पोर्ट्स की जर्सी प्रिंट की जाती हैं जैसा कि हम देखते हैं क्रिकेट, कबड्डी ,हॉकी इस तरीके की जो इवेंट में t-shirts या जर्सी पहनी जाती हैं वह ज्यादा करके सब्लीमेशन प्रिंटिंग से की जाती हैं सब्लीमेशन प्रिंटिंग में ज्यादा कर dryfits, पॉलिस्टर ,नायलॉन, राइस ने आदि इस तरीके के कपड़ों पर प्रिंटिंग की जाती है साथ ही यह सिर्फ हल्के कलर के कपड़ों पर ही प्रिंटिंग होती है 

screen printing मुख्य रूप से सभी प्रकार के फैब्रिक पर किया जा सकता है यह बहुत ही पुरानी तकनीक है जो कि आज तक चली आ रही है screen printing में कॉटन ,पॉलिस्टर, नायलॉन ,पेपर, प्लास्टिक्स ,नॉन वोवन बैग, चमड़े का सामान लकड़ी व लोहे पर किया जा सकता है कपड़ों पर प्रिंट करने के लिए मुख्य रूप से plastisol ink का उपयोग किया जाता है.हम हमारे आसपास मार्केट में देखते हैं लोग rubber print की डिमांड ज्यादा करते हैं यह rubber print और कुछ नहीं plastisol ink से प्रिंट किया हुआ प्रिंटिंग होता है जोकि देखने पर rubber जैसा लगता है यह प्रिंटिंग लगभग सभी कपड़ों पर की जा सकती है वह किसी भी प्रकार के लाइट या डार्क कलर के कपड़ों पर भी प्रिंटिंग की जा सकती है प्लाष्टिसोल इंक से प्रिंटिंग करना बहुत ही आसान होता है स्क्रीन प्रिंटिंग का छोटा t-shirt प्रिंटिंग सेटअप लगाने में कुल खर्चा लगभग ₹70000 तक आता है आप दिए गए लिंक पर क्लिक करके यह जानकारी देख सकते हैं

किसी भी प्रकार की प्रिंटिंग का चुनाव करने से पहले सबसे पहले हमको उस एरिया शहर के बारे में जानना पड़ता है कि लोग वहां क्या पसंद करते हैं जैसे अगर वह स्पोर्ट्स या खेलकूद से संबंधित एरिया व शहर है तो सब्लीमेशन प्रिंटिंग वहां खूब चलेगी अगर वह आईटी प्रोफेशनल एरिया है तो उस जगह स्क्रीन प्रिंटिंग के लिए कॉर्पोरेट आर्डर ज्यादा मिलेंगे हमको सारी चीजें देखने के बाद ही किस तरह की प्रिंटिंग करनी है इस पर निर्णय लेना चाहिए

4.Where we get training for T shirt screen printing?टी शर्ट प्रिंटिंग की ट्रेनिंग हमें कहां से प्राप्त होगी? 

दिए गए www.teshirtprint पर आप क्लिक करके टी शर्ट प्रिंटिंग की ट्रेनिंग प्राप्त कर सकते हैं  दिए गए मोबाइल नंबर 07977354960 पर भी आप कांटेक्ट करके यह ट्रेनिंग प्राप्त कर सकते हैं

5.What is the cost of 1 t shirt when we print from screen Printing?टी शर्ट प्रिंटिंग करते वक्त एक टी-शर्ट प्रिंट करने पर क्या कॉस्ट आता है?

टी शर्ट प्रिंटिंग का कॉस्ट अलग-अलग डिजाइन पर अलग-अलग आता है जैसे कि अगर आपका डिजाइन A4 साइज का है या A3 साइज का है तो यह अलग-अलग कॉस्टिंग आएगा उसी प्रकार अगर आप लोगों प्रिंट कर रहे हैं तो उसकी कॉस्टिंग अलग आएगी फिर भी हम आपको टी शर्ट प्रिंटिंग का कॉस्ट एंड जानने के लिए हमें कुछ मापदंड बता रहे हैं वह इस्तेमाल करके आप अपने डिजाइन के हिसाब से कॉस्टिंग निकाल सकते हैं

  • क्वांटिटी किसी भी प्रकार के टी शर्ट्स के कॉस्टिंग निकालने के लिए हमें यह जानना जरूरी है कि उस डिजाइन में हमें कितने t-shirts प्रिंट करने हैं
  • उस एक डिजाइन में कितने कलर हैं
  • क्या वह डिजाइन कोई साधारण शब्द है या ग्रैफिक्स हैं जैसे कि कोई कार्टून या कोई सीनरी-अगर ग्राहक ने कोई साधारण डिजाइन या अपने कंपनी या व्यापार का नाम छापने के लिए हमें दिया है तो उसकी कॉस्टिंग कब आएगी मगर कोई अन्य ग्राहक हमें मल्टी कलर प्रिंट देख कर कोई ग्रैफिक्स डिजाइन देता है यानी कि जैसे कोई स्टार वॉर्स की फोटोस कार्टून या कुछ और मल्टी कलर के ग्राफिक डिजाइन इस तरह के के ऑर्डर्स में हमारी कॉस्टिंग बढ़ जाएगी क्योंकि इसमें लगने वाला वक्त ज्यादा होगा और प्रेम एक्सपोजिंग कि जो क्वालिटी है वह भी बढ़ानी होगी जिस वजह से जो भी कारीगर यह स्क्रीन प्रिंटिंग के फ्रेम एक्सपोर्ट करेगा वह चार्ज ज्यादा लेगा  .

एक उदाहरण से यह सब समझते हैं यहां पर हम दो ग्राहक उदाहरण के लिए लेंगे जिसमें से एक ग्राहक हमें अपनी कंपनी के 50 टीशर्ट प्रिंट करने को देता है जिसमें फ्रंट लोगों और t-shirts के पीछे तरफ कंपनी का नाम और मोबाइल नंबर लिखना है सिर्फ एक कलर में.

वही जो दूसरा ग्राहक है वह हमें एक डिजाइन दे रहा है जिसको हमें एक ही टीशर्ट के ऊपर प्रिंट करना है

दोस्तों अब हमें यह दोनों चीजें समझ नहीं होंगी पहला जो ग्राहक है उसने हमें 50 टी शर्ट प्रिंट करने के लिए दिए हैं जिसकी वजह से हर t-shirts को प्रिंट करने का जो चार्ज है वह एक कलर के लिए ₹20 लिया जाएगा

Customer 1

50 T shirt single colour, front and back printing.

So we charge 20 Rs par t shirt for printing.

50×20=1000/-

Frame charge for 1 frame=250

So total charge taken by us from customer for 50 t shirt printing is=1000+250=1250

Customer 2

1 t shirt, 1 design ,2 colour

So we charge 250 Rs Par frame charge

250×2=500Rs

Plus 50 Rs printing charge

So total charge taken by us from customer for is  t shirt is

500+50=550/-

                                        Customer 1  Average price for 50 t shirt is=25Rs

                                         Customer 2- Average price for 1 t shirts =550Rs

 

ऊपर दिए गए उदाहरण देख कर आप वह सारे मापदंड समझ सकते हैं जो हम आपको बताना चाहते हैं इसमें जो यह ₹20 पर प्रिंटिंग का चार्ज लिया है वह अलग-अलग शहरों में अलग-अलग चार्ज हो सकता है कहीं वह ₹15 भी हो सकता है कहीं वह ₹25 भी हो सकता है यह हमने सिर्फ उदाहरण के लिए ही ₹20 लिया था. दोस्तों इसमें जो हमने फ्रेम चार्ज लिया है यह भी अन्य शहरों में अलग अलग हो सकता है अगर टी-शर्ट की क्वांटिटी ज्यादा रहती है जैसे कि 500 या 1000 शर्ट प्रिंट करने के लिए आते हैं तो उस समय है जो दुकानदार है वह प्रेम चार्ज को और भी कम कर सकता है या उसे 0 भी कर सकता है

दोस्तों प्रिंटिंग कॉस्ट निकालते वक्त अगर इसमें कुछ अन्य सुझाव आप हमें देना चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में वह सुझाव दे सकते हैं या कुछ और भी जानकारी आपको चाहिए तो वह भी वहां पूछ सकते हैं

 

6.DTF SETUP के लिए कितने पैसों की जरूरत होती है? COST OF DTF SETUP ?

एक छोटा DTF PRINTING SETUP करने के लिए निम्नलिखित मशीनें ,कलर व केमिकल की जरूरत पड़ती है उसके मूल्य भी हम आपको यहां बता रहे हैं मगर DTF PRINTING शुरू करने से पहले आप जहां से भी यह DTF PRINTING  खरीदेंगे तो गारंटी- वारंटी इन सभी बातों की जानकारी उस विक्रेता से जरूर ले लीजिएगा .DTF SETUP  लेते वक्त आपको DTF PRINTING की पूरा प्रोसेस उसमें लगने वाले सॉफ्टवेयर और क्या-क्या प्रॉब्लम आते हैं उन सब की जानकारी अच्छे से ले लेनी है अथवा भविष्य में आपको बहुत परेशानियां झेलनी पड़ सकती हैं इसके लिए हमने एक वीडियो भी बनाया हुआ है उसका लिंक हम आपको यहां पर दे रहे हैं वह आप अच्छे से देख लीजिए समझ लीजिए उसके बाद सारी बातों को ध्यान में रखकर अपना उचित निर्णय करिए.

 

Sample price list for small DTF set up for year 2023

 

Epson L1800 Printer

+

DTF Conversion Charge

+

Sofware Charge

 

52500

12 x 18 Size DTF Film

 

3400

DTF Inks

3500

DTF Soft Powder

1800

Wooden Tray

 

4500

Auto Page Loader

 

13000

Curring Ovan

 

18000

Heat pressx16x24

21500

Roll Stand

2500

software

6000

Petfilm Roll

4500

Total

131200/-

TRANSPORT EXTRA

 

7.Difference Between water based ink and Plastisol Ink in Hindi

Water based ink और Plastisol Ink के बीच के विभिन्न अंतरों को समझाने में मदद कर सकता हूँ।

Water based ink और Plastisol Ink दो प्रमुख प्रकार के छपाई इंक हैं जो उभरते छपाई उद्योग में उपयोग होते हैं। ये इंक छपाई में उपयोग किए जाने वाले दो विभिन्न प्रकार के माध्यमों हैं, जो तारीख के साथ विकसित हुए हैं और अपनी विशेषताओं में अंतर हैं।

Water based in:

  • Water based ink में प्रमुख घटक पानी होता है, जो छपाई के लिए मूल आधार प्रदान करता है। इसमें रंगों को विभिन्न तत्वों में विलिप्त होने से रोकने के लिए उपयोगी तत्वों का भी उपयोग किया जाता है।
  • ये इंक जलने वाले स्थानों पर प्रभावी होते हैं क्योंकि ये जल में गलते नहीं हैं। इसके लिए इंक को संरक्षित करने के लिए एक संकेतक पदार्थ की आवश्यकता होती है।
  • Water based ink साधारणतया पोरस पदार्थों को अधिक अनुकरण करते हैं, इसलिए ये छपाई में अधिक मजबूती और विचारशीलता प्रदान करते हैं।
  • इस प्रकार का इंक ज्यादातर कपड़ों पर उपयोग किया जाता है, जिसमें उच्च सामरिक प्रदर्शन की आवश्यकता होती है। इसके लिए, पानी आधारित इंक को कपड़े में भिगोने के लिए एक जरूरी प्रक्रिया शामिल होती है, जो उच्च तापमान और संक्रमित कपड़े को धूल और अन्य विषाणुओं से साफ़ करने में मदद करती है।

Plastisol Ink:

  • Plastisol Ink में प्रमुख घटक Plastisol है, जो इंक को थिका बनाता है और रंग को छपाई माध्यम पर बाँधता है।
  • ये इंक जलने वाले स्थानों पर अधिक प्रभावी होते हैं क्योंकि इंक के घटकों को उच्च तापमान चाहिए जो छपाई माध्यम में सुखाने के बाद ही चुस्की लेता है।
  • Plastisol Ink अधिकतर गैर-पोरस माध्यमों पर उपयोग किया जाता है, जिसमें रंगों की उच्च पटखनी और भविष्यवाणी की आवश्यकता होती है।
  • इस प्रकार का इंक दागदार हो सकता है, जिसके कारण इसकी देखभाल और सवारी आवश्यक होती है।
  • Plastisol Ink सामरिक उद्योग में आम रूप से उपयोग होता है, जैसे कि टी-शर्ट छपाई, हुडीज, स्वेटशर्ट्स, जैकेट्स, और अन्य गैर-कपड़े उत्पादों पर।

इस तरह, पानी आधारित इंक और Plastisol Ink दोनों में अंतर होता है जो उनके उपयोग, स्थानीय प्रदर्शन, और देखभाल में है। आपकी विचारधारा और उपयोग के आवश्यकताओं के आधार पर, आप इन इंक के मध्य अपना चयन कर सकते हैं। यह अहम है कि आप अपनी छपाई के उद्योगिक उपयोग के लिए उपयुक्त इंक का चयन करें जो आपके उत्पादों की गुणवत्ता और दिक्कतों को मदद करेगा।

This Post Has 19 Comments

Leave a Reply